.Com गोल्डेन बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड से सम्मानित किये गये डा0 जय वर्मा | Zila News

गोल्डेन बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड से सम्मानित किये गये डा0 जय वर्मा

अब्दुल कय्यूम

लखनऊ: होमियोपैथी के क्षेत्र में जानामाना नाम डॉ जय वर्मा ने वो काम कर दिखाया जिसे आज तक बड़े से बड़े यूरोलॉजिस्ट नही कर सके।डॉ वर्मा ने रिकॉर्ड 49.1 एमएम की पथरी मात्र तीन दिनों में अपनी पैथी के द्वारा निकाल दिया।

डॉ वर्मा ने अब तक गुर्दे की पथरी के लगभग सभी केसों मात्र कुछ ही दिनों के जादुई इलाज से हल करने में सफलता हासिल किया।जबकि एलोपैथिक चिकित्सा में गुर्दे की पथरी का इलाज मात्र सर्जरी ही है।

डॉ जय वर्मा ने एक प्रेस वार्ता में बताया कि व्यक्ति के शरीर मे पथरी बनती रहती हैं और बाहर भी निकलती रहती है शरीर की अपाचन सही न होने की वजह से पथरियाँ बाहर नही निकल पातीं और असहनीय दर्द का कारण बनती हैं।डॉ वर्मा ने बताया कि होमियोपैथी से दर्द पर कुछ ही समय मे काबू पाया जा सकता है।होमियोपेथी चिकित्सा से बॉडी को वाइटल फ़ोर्स के माध्यम से शक्ति प्रदान कर रोग से लड़ने की क्षमता प्रदान करती है और खास बात यह है कि इसका कोई साइड इफेक्ट्स भी नही होता।होमियोपेथी से असहनीय दर्द में से तुरंत आराम मिलता है और इंजेक्शन की कोई जरूरत भी नही पड़ती है।

No comments

Post a comment

Home