.Com प्राकृतिक रंगों के साथ होली खेली जायः डा. मौलश्री चित्रवंशी | Zila News

प्राकृतिक रंगों के साथ होली खेली जायः डा. मौलश्री चित्रवंशी

जौनपुर। आप सब प्राकृतिक रंगों के संग होली खेलें। केमिकल युक्त रंग नुकसानदायक हाते हैं। गांव में तो गोबर व कीचड़ तक से भी होली खेलते हैं। इन सबसे शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है। होली आपसी प्रेम व भाईचारा का त्योहार है। आपस के गिले-शिकवे भूलकर सहेली, मित्र, परिवार, पड़ोस, सम्बन्धी आदि के साथ मिलकर प्राकृतिक रंगों व फूल की होली या फूलों से बने संग के साथ होली खेलें। उक्त बातें कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय में जेसीआई शाहगंज शक्ति द्वारा आयोजित फूलों की होली कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि जेसीआई शक्ति की अध्यक्ष डा. मौलश्री चित्रवंशी ने कही। इसके पहले अतिथि परिचय व कार्यक्रम के उद्देश्य पर प्रकाश डालते हुये मौलश्री चित्रवंशी ने कहा कि आप सबको केमिकल रंग से होने वाला दुष्प्रभाव के बारे जानकारी देना ही इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य है। सभी लोग प्राकृतिक रंगों के साथ होली का आनन्द लें। सभी अपने लोगों को भी केमिकल के रंग से होने वाले नुकसान के बारे बतायें। इस दौरान उन्होंने होली से जुड़ी धार्मिक भक्त प्रहलाद की कहानी भी सुनाया। कार्यक्रम का संचालन कार्यक्रम संयोजक एकता नीलम ने किया। अनत में सचिव रीता जायसवाल ने सभी के प्रति आभार जताया। इस अवसर पर डा. प्रज्ञा चित्रवंशी, डा. श्रेया चित्रवंशी, उषा, प्रीतमा, नीतू, नीलम, अल्पना सिंह, नीलम पाल, किरण मौर्या, सुमन यादव, आदर्श, मनवास, आशीष राय सहित तमाम लोग उपस्थित रहे।

No comments

Post a comment

Home