.Com GST का नये रिटर्न ट्रायल का आनलाइन संस्करण हुआ जारी | Zila News

GST का नये रिटर्न ट्रायल का आनलाइन संस्करण हुआ जारी



सज्जाद बाक़र


लखनऊ । वस्तु व सेवा कर नेटवर्क (जीएसटीएन) ने नए जीएसटी रिटर्न के हिस्से के रूप में करदाताओं का परिचय कराने के लिए नए रिटर्न के जीएसटी एएनएक्स-1 व जीएसटी एएनएक्स-2 का ऑनलाइन संस्करण जारी किया। यह नई सुविधा जीएसटी पोर्टल www.gst.gov.in पर उपलब्ध होगी।

नए जीएसटी रिटर्न फाइलिंग की प्रस्तावित प्रणाली में एक साधारण करदाता को मासिक अथवा त्रैमासिक आधार पर फॉर्म जीएसटी आरईटी-1 (सामान्य) (मासिक अथवा त्रैमासिक आधार पर) अथवा फॉर्म जीएसटी आरईटी-2 (सहज) / फॉर्म जीएसटी आरईटी-3 (सुगम) (दोनों त्रैमासिक आधार पर) फाइल करना होगा।आपूर्ति का अनुलग्नक (जीएसटी एएनएक्स-1) तथा इनवार्ड आपूर्ति का अनुलग्नक (जीएसटी एएनएक्स-2) को भी इन रिटर्न के हिस्से के रूप में अपलोड किया जाना आवश्यक होगा।नए रिटर्न ऑफलाइन टूल में और अधिक सुधार के लिए प्रस्तावित नई रिटर्न प्रणाली से हितधारकों का परिचय कराने तथा उनका सुझाव प्राप्त करने के लिए ऑफलाइन टूल का प्रायोगिक संस्करण इस वर्ष जुलाई में जीएसटी पोर्टल पर जारी किया गया था।

अभी तक करदाता,फॉर्म जीएसटी एएनएक्स 1 को तैयार करने तथा जीएसटी पोर्टल पर अपलोड करने के लिए नए रिटर्न ऑफलाइन टूल का उपयोग कर सकते थे।वे जीएसटी एएनएक्स 2 जेएसओएन फाइल (प्राप्तकर्ता के रूप में इनवार्ड आपूर्ति का विवरण) को डाउनलोड भी कर सकते हैं तथा इसे टूल में इम्पोर्ट कर सकते हैं।

जीएसटी एएनएक्स 1 तथा जीएसटी एएनएक्स 2 के ऑनलाइन संस्करण को जारी करके अब आपूर्तिकर्ता करदाताओं को सीधे जीएसटी पोर्टल पर ऑनलाइन ही अपने फॉर्म जीएसटी एएनएक्स 1 में बिजनेस-टू-बिजनेस (बी2बी),बिजनेस-टू-कंज्यूमर (बी2सी),और रिवर्स चार्ज लगने योग्य आपूर्तियों का विवरण भरने की सुविधा उपलब्ध करा दी गई है।


नए रिटर्न ऑफलाइन टूल ट्रायल पर अधिक विवरण लिंक https://selfservice.gstsystem.in/ पर उपलब्ध है।जीएसटीएन के बारे में गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स नेटवर्क जीएसटीएन एक खंड 8 नए कंपनी अधिनियम के अंतर्गत,गैर लाभकारी कंपनियां खंड 8 के अंतर्गत शासित होती हैं की गैर-सरकारी, प्राइवेट लिमिटेड कंपनी है।मार्च 2013 में स्थापित इस कंपनी की स्थापना मुख्यतया वस्तु एवं सेवा कर जीएसटी के क्रियान्वयन के लिए केंद एवं राज्य सरकारों,कर दाताओं तथा अन्य हितधारकों को आईटी अवसंरचना एवं सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए की गई है।

No comments

Post a Comment

Home