.Com पूर्वांचल विश्वविद्यालय का दीक्षांत समारोह 16 फरवरी को,राज्यपाल करेगी अध्यक्षता | Zila News

पूर्वांचल विश्वविद्यालय का दीक्षांत समारोह 16 फरवरी को,राज्यपाल करेगी अध्यक्षता


जौनपुर । वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय जौनपुर का 24 वां दीक्षांत समारोह बसंत पंचमी के शुभ अवसर पर 16 फरवरी 2021 को आयोजित किया जा रहा है। दीक्षांत समारोह की अध्यक्षता कुलाधिपति एवं राज्यपाल, उत्तर प्रदेश श्रीमती आनंदीबेन पटेल करेंगी । काशी हिंदू विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति तथा रानी लक्ष्मी बाई केन्द्रीय कृषि विश्वविद्यालय के कुलाधिपति, जाने माने कृषि वैज्ञानिक प्रो. पंजाब सिंह मुख्य अतिथि  होंगे।  दीक्षांत समारोह में कार्य परिषद एवं विद्या परिषद सहित समस्त विधाई समितियों के सम्माननीय सदस्यगण भी उपस्थित रहेंगे | विश्वविद्यालय परिसर में महंत अवेद्यनाथ जी की प्रतिमा का अनावरण 16 फरवरी 2021 को माननीय राज्यपाल उत्तर प्रदेश एवं कुलाधिपति श्रीमती आनंदीबेन पटेल जी करेंगी ।
विश्वविद्यालय ने अपनी स्थापना के 33 वर्षों में शोध एवं शिक्षा के क्षेत्र में कई कीर्तिमान स्थापित किए हैं | दीक्षांत समारोह में सत्र 2019-20 में विभिन्न विषयों के 73 सर्वोच्च अंक धारक विद्यार्थियों को कुलाधिपति द्वारा स्वर्ण पदक प्रदान किए जाएंगे इनमें स्नातक के 15 विद्यार्थियों जिसमें 7 छात्र एवं 8 छात्राएं हैं, इसी तरह परास्नातक में 58 विद्यार्थियों को जिसमें 20 छात्र और 38 छात्राएं शामिल हैं | विभिन्न निकायों के 67 शोधार्थियों को पीएचडी उपाधि प्रदान की जाएगी | विश्वविद्यालय में उच्च शिक्षा एवं शोध के क्षेत्र में कई प्रतिष्ठित संस्थानों द्वारा पोषित शोध परियोजनाओं का परिचालन किया जा रहा है | यह देखने में आ रहा है कि बालिकाएं शिक्षा के साथ-साथ अन्य क्षेत्रों में भी तेजी से सफलता की सीढ़ियां चल रही है और नित नई ऊंचाइयों को छू रही हैं|

 कोविड- 19 के दौर में विद्यार्थियों के लिए  ऑनलाइन तथा सुरक्षा के साथ  ऑफलाइन पठन-पाठन संचालित करने की पूरी कोशिश की गई है। शैक्षणिक सत्र में परिसर के विभिन्न विभागों में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020  तथा अन्य विषयों से संबंधित अनेक प्रकार के विभिन्न  विषयों से संबंधित वेबिनार आयोजित किए गए |  विशेष व्याख्यान माला के लिए ऑनलाइन विषय विशेषज्ञों को आमंत्रित किया गया | विद्यार्थियों को जागरूक करने के साथ-साथ मानसिक रूप से मजबूत किया है। इसी के साथ विश्वविद्यालय परिसर एवं महाविद्यालयों की परीक्षाएं निर्धारित समय से कराए जाने का प्रयत्न किया जा रहा है | उत्तर प्रदेश के छह भाषा केंद्रों के संचालन एवं निगरानी का दायित्व पूर्वांचल विश्वविद्यालय को सौंपा गया है। इसके साथ ही परिसर के जनसंचार विभाग में अनुवाद उत्कृष्टता केंद्र स्थापित किया गया है। यह केंद्र लेखकों की कृतियों का अन्य भाषा में अनुवाद  को बढ़ावा देगा। विश्वविद्यालय में शिक्षकों के शैक्षिक उन्नयन हेतु भी निरंतर प्रयास  करते हुए पुनश्चर्या पाठ्यक्रम आयोजित किए गए हैं तथा गुणवत्तायुक्त शोध एवं लेखन हेतु उन्हें प्रोत्साहित किया जा रहा है।  इस तरह  कोविड काल में भी विश्वविद्यालय निरंतर प्रगति के पथ पर अग्रसर रहा है | विगत कुछ माह में विश्वविद्यालय ने शैक्षणिक व शासकीय, अनुसंधान, संगोष्ठी, प्रशिक्षण, मासिक परिचर्चा, निर्माण, पर्यावरण संरक्षण के कार्यक्रमों  के साथ-साथ सामाजिक सरोकारों से जुड़े कार्य एवं शासन की मंशा अनुसार निर्देशित अन्य कार्यों का संपादन एवं नेतृत्व किया है | महामहिम द्वारा विश्वविद्यालय के नेतृत्व में 50 गांवों को गोद लिया गया है | इन गांवों को टी बी, कुपोषण एवं पॉलिथीन मुक्त गांव करने के लिए निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं | हमेशा यहां स्वास्थ्य परीक्षण शिविर लगाकर ग्रामीणों को जागरूक किया जा रहा है | कई गांव में तथा  वृद्धाश्रम में गरीबों के सहायतार्थ कंबल तथा खाद्य सामग्री का वितरण किया गया है |

विश्वविद्यालय की स्थापना से लेकर अब तक सभी उत्तीर्ण विद्यार्थियों के अंकपत्रों को डिजिटलाइज किया गया है। विश्वविद्यालय में  ऑनलाइन अवार्ड वेरिफिकेशन पोर्टल की शुरुआत की गई है, जिससे अब पीयू के किसी भी विद्यार्थी के अंकपत्र का वेरिफिकेशन आनलाइन किया जा सकता है। इससे देश-विदेश में नौकरी करने वालों एवं नियोक्ताओं के लिए सुविधा के साथ-साथ पारदर्शिता भी बनी रहेगी। विवेकानंद केंद्रीय पुस्तकालय द्वारा लाकडाउन के दौरान पठन- पाठन की निरंतरता के लिए शिक्षकों, शोधार्थियों और विद्यार्थियों को राष्ट्रीय और अन्तरराष्ट्रीय स्तर के प्रकाशकों की पाठ्य सामग्री निःशुल्क आनलाइन उपलब्ध कराई गई। पुस्तकालय द्वारा निरंतर विश्वविद्यालय के शोध ग्रंथों को यूजीसी के पोर्टल पर अपलोड किया जा रहा है। विश्वविद्यालय की सभी अवार्डेड थीसिस आनलाइन उपलब्ध हैं। शोधगंगा पोर्टल पर विश्वविद्यालय का प्रदेश में दूसरा और देश में सातवां स्थान है। सत्र 2019-20 में विश्वविद्यालय के खिलाड़ियों ने अखिल भारतीय स्तर पर आयोजित विभिन्न खेल प्रतियोगिताओं में  36 स्वर्ण, 29 रजत और 46 कांस्य पदक सहित कुल 111 पदक प्राप्त किए |
लाकडाउन के दौरान विश्वविद्यालय ने अपने सामाजिक उत्तरदायित्वों का भी निर्वहन किया है। विश्वविद्यालय के छात्रावास में एल-1 हास्पिटल की स्थापना की गई थी। विश्वविद्यालय परिसर के रसायन विज्ञान विभाग एवं फार्मेसी संस्थान के शिक्षकों द्वारा मानक के अनुरूप इथनाल तथा आइसोप्रोपिल युक्त सैनेटाइजर बनाया गया। राष्ट्रीय सेवा योजना एवं रोवर्स-रेंजर्स के स्वयंसेवक सेविकाओं द्वारा गांव में कोविड-19 से जागरूकता के लिए निरंतर कार्य किया गया जो कि सराहनीय है। राष्ट्रीय सेवा योजना से जुड़े विद्यार्थियों ने गांवों में मास्क, सेनैटाइजर खाद्य सामग्री आदि का समय-समय पर वितरण भी किया। गोद लिए गए गांवों में निरंतर जागरूकता के कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। नारी सुरक्षा स्वावलंबन एवं सम्मान के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा चलाई गई योजनाओं के अन्तर्गत विश्वविद्यालय ने मिशन शक्तिअभियान के तहत कई कार्यक्रम आयोजित किये |पूर्वान्चल विश्वविद्यालय,जौनपुर द्वारा आयोजित बापू बाजार को विशिष्ट पहचान मिली है | विश्वविद्यालय परिसर में राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर युवा पीढ़ी में राष्ट्रीय मूल्यों के प्रति श्रद्धा और प्रेरणा के उद्देश्य से लौह पुरुष भारत रत्न सरदार वल्लभभाई पटेल जी की प्रतिमा का ऑनलाइन अनावरण प्रदेश की माननीय राज्यपाल एवं कुलाधिपति श्रीमती आनंदीबेन पटेल जी ने किया है |  

रोवर्स- रेंजर्स तथा एन.एस.एस जैसी गतिविधियों में  विश्वविद्यालय का राज्य स्तर पर उत्कृष्ट प्रदर्शन रहा है तथा प्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त किया है | बेसिक रोवर्स रेंजर्स लीडर कोर्स और एडवांस कोर्स प्रदेश में पहली बार पूर्वांचल विश्वविद्यालय में आयोजित हुआ है | विश्वविद्यालय के कौशल विकास प्रशिक्षण केंद्र में कंप्यूटर का प्रशिक्षण दिया जा रहा है।विद्यार्थियों एवं शोधार्थियों के उज्जवल भविष्य तथा रोजगार को ध्यान में रखते हुए विश्वविद्यालय  राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2021 को केंद्रित कर पाठ्यक्रम  संचालित करने की ओर अपना कदम बढ़ा रहा है | प्रदेश शासन की पहल पर विश्वविद्यालय परिक्षेत्र के नव स्थापित राजकीय महाविद्यालयों में विद्यार्थियों के लिए 14 रोजगारपरक पाठ्यक्रम संचालित किए जाने हेतु उच्च शिक्षा विभाग को प्रस्ताव प्रेषित किए गए हैं । प्रस्ताव स्वीकृत होने पर इन पाठ्यक्रमों का संचालन उक्त महाविद्यालयों में किया जाएगा ।

No comments

Post a comment

Home