.Com कानपुर के रियल स्टेट कारोबारी मनीष गुप्ता हत्याकांड का जौनपुर से जुड़ा तार | Zila News

कानपुर के रियल स्टेट कारोबारी मनीष गुप्ता हत्याकांड का जौनपुर से जुड़ा तार

हत्याकांड में फरार चल रहे आरोपित उप निरीक्षक की तलाश में एसआईटी की छापेमारी*

*फरार चल रहे इनामी दरोगा के परिवार वालों से पुलिस टीम ने घंटों देर तक पूछताछ की*

*जौनपुर।*
कानपुर के रियल स्टेट कारोबारी बर्रा 3, जनता नगर निवासी मनीष गुप्ता हत्याकांड के तार जौनपुर जनपद से जुड़ गए हैं।  इस हत्याकांड में शामिल फरार चल रहे  एक लाख के इनामी जौनपुर निवासी उप निरीक्षक विजय कुमार यादव की तलाश में एसआईटी की स्पेशल टीम उसके पैतृक आवास, उसके ससुराल व कुछ अन्य रिश्तेदारों के यहां शनिवार को पूरे दिन
ताबड़तोड़ छापेमारी की।

एसआईटी व गोरखपुर की स्पेशल टास्क फोर्स ने  जौनपुर के बक्शा थाना क्षेत्र के चितौड़ी
गांव निवासी उप निरीक्षक विजय कुमार यादव के घर ताबड़तोड़ छापेमारी कर उनके पिता दल सिंगार यादव से भी घंटों देर तक पूछताछ की। हालांकि उनके पिता ने बेटे से किसी प्रकार की बात होने से साफ इनकार किया लेकिन जांच टीम उनकी बातों पर भरोसा नहीं कर सकी। आखिरकार टीम ने उन्हें परिवार के कुछ खास लोगों के साथ बक्शा थाना में बुला कर जांच में लगे  पुलिस के कुछ वरिष्ठ अधिकारियों से भी उनकी बातचीत कराई। 
 बेहद गोपनीय तरीके से चल रही इस जांच पड़ताल और छापेमारी में पुलिस के हाथ काफी कुछ सुराग भी लग गए हैं। 
गोरखपुर के उक्त होटल में हुई घटना के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा दोषी
पुलिसकर्मियों खिलाफ जैसे ही सख्त कार्रवाई का निर्देश दिया, उसके तत्काल बाद प्रदेश पुलिस की स्पेशल जांच टीम ने सभी आरोपितों पर शिकंजा कस दिया है। आरोपित सभी छह पुलिस कर्मियों पर घोषित 25 , 25 हजार इनाम की राशि 24 घण्टे में बढ़ाकर एक, एक लाख रुपए कर दी गई है। क्योंकि निलंबित होने के बाद से ये सभी हत्या आरोपी फरार चल हैं।
गोरखपुर की घटना के बाद से प्रदेश पुलिस के रडार पर आए फरार चल रहे सभी 6 पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी के लिए एसआईटी की टीम ने पूर्वांचल के जनपद जौनपुर, मिर्जापुर, गाजीपुर  और बलिया जिले में डेरा डाल दिया है।
 यह वही उपनिरीक्षक है जिसने इंस्पेक्टर जगत नारायण सिंह निवासी थाना मुसाफिरखाना जनपद अमेठी के साथ मिलकर गोरखपुर के होटल में कानपुर के रियल एस्टेट कारोबारी मनीष गुप्ता की पिटाई में सबसे अहम भूमिका निभाई थी।
घटना की जांच कर रही एसआईटी सदस्य तथा डीसीपी साउथ रवीना त्यागी ने इस प्रतिनिधि को बताया कि फरार चल रहे इंस्पेक्टर जगत नारायण सिंह के साथ अक्षय कुमार मिश्र निवासी थाना नरही जनपद बलिया, जौनपुर जनपद के बक्शा थाना क्षेत्र निवासी उप निरीक्षक विजय कुमार यादव के साथ राहुल दुबे निवासी थाना कोतवाली देहात जनपद मिर्जापुर, मुख्य आरक्षी कमलेश सिंह यादव निवासी थाना परिसर जनपद गाजीपुर और आरक्षी नागरिक पुलिस प्रशांत कुमार निवासी थाना सैदपुर जनपद गाजीपुर की गिरफ्तारी के लिए अलग-अलग छह पुलिस टीमें छापेमारी कर रही हैं। 
उन्होंने बताया कि फरार चल रहे इन सभी छह आरोपितों में कुछ के पूर्वांचल में होने का लोकेशन सर्विलांस की मदद से मिला है।
इसके अलावा उनके कुछ अन्य नजदीकी रिश्तेदारों और मित्रों  की भी मदद गोपनीय तरीके से ली जा रही है। 
जिसकी सटीक सूचना देने वाले को शासन से घोषित ईनाम की राशि चिन्हित अभियुक्तों के पकड़े जाने पर दी जाएगी।

No comments

Post a Comment

Home