.Com प्रेम राजपुर . जौनपुर.रहमतों वाली रात शब-ए-बारात पर मस्जिद सजाई गई | Zila News

प्रेम राजपुर . जौनपुर.रहमतों वाली रात शब-ए-बारात पर मस्जिद सजाई गई


 शब-ए-बारात के दिन मुस्लिम समाज के लोग मस्जिदों में खुदा की इबादत करते हैं. मुस्लिम समाज के लोग कब्रिस्तान में जाकर अपने पूर्वजों के लिए मगफिरत की दुआ भी मांगते हैं.

शब-ए-बारात यह वो रात है जब अल्लाह की रहमत बरसती है. इस रात में जो भी अल्लाह की इबादत करता है या अपने गुनाहों की माफी मांगता है तो उसे गुनाहों से माफी मिल जाती है. मुस्लिम समुदाय के लिए शब-ए-बारात ( Shab e barat) एक प्रमुख त्योहार है. इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार शब-ए-बारात का त्योहार शाबान महीने की 14वीं तारीख और 15वीं तारीख के मध्य रात को मनाया जाता है. जबकि अंग्रेजी कलेंडर के अनुसार 18 मार्च को सूर्यास्त से शुरू होकर 19 मार्च सुबह अजान के समय तक शब-ए-बारात मनाया जाएगा. शब ए रात के दिन लोग रात भर कुरान और नमाज की लोग अल्लाह की करते हैं इबादत

No comments

Post a Comment

Home