.Com महिन्द्रा म्यूचुअल फंड ने लांच की नई महिन्द्रा क्रेडिट रिस्क योजना | Zila News

महिन्द्रा म्यूचुअल फंड ने लांच की नई महिन्द्रा क्रेडिट रिस्क योजना

मध्यम से लंबी अवधि के लिए उचित आय और पूंजी वृद्धि की चाहत रखने वाले निवेशकों के लिए उपयुक्त।मध्यम से उच्च सुरक्षा निवेश ग्रेड के क्वालिटी इंस्ट्रूमेंट्स में निवेश।रिस्क गार्ड प्रोसेस के आधार पर प्रतिभूतियों का चयन-इन हाउस रिसर्च और प्रोसेस फ्रेमवर्क।

सज्जाद बाक़र

लखनऊ:महिंद्रा एंड महिंद्रा फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड (एमएमएफएसएल) की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी महिंद्रा म्युचुअल फंड ने निवेशकों के लिए नई नई ‘महिंद्रा क्रेडिट रिस्क योजना‘ लाॅन्च की है।यह योजना ऐसे निवेशकों के लिए उपयुक्त हैं जो मध्यम से लंबी अवधि के लिए उचित आय और पूंजी वृद्धि की चाहत रखते हैं। ‘महिंद्रा क्रेडिट रिस्क योजना‘ एक ओपन एंडेड डेट योजना है जो मुख्य रूप से एए़़ रेटेड कॉरपोरेट बॉन्ड्स को छोड़कर एए और इससे नीचे वाले कॉर्पोरेट बॉन्ड्स में निवेश करती है।न्यू फंड ऑफर 27 जुलाई, 2018 को खुलेगा और 10 अगस्त, 2018 को बंद होगा।यह योजना आवंटन की तारीख से 5 कारोबारी दिनों के भीतर निरंतर बिक्री और पुनर्खरीद के लिए फिर से शुरू की जाएगी।

महिंद्रा म्युचुअल फंड के एमडी और सीईओ श्री आशुतोष विश्नोई ने कहा,‘महिंद्रा क्रेडिट रिस्क योजना निवेशकों को देश की विकास यात्रा में भागीदारी करने का अवसर देती है।इस योजना के तहत बेहतर तरीके से विविधिकृत डेट पोर्टफोलियो वाली मजबूत,हाई लिक्विड और जानी-मानी कंपनियों निवेश किया जाएगा।हमारा मानना है कि यह योजना एक आकर्षक दीर्घकालीन निवेश का अवसर प्रदान करती है,इसलिए उचित आय और पूंजी वृद्धि की चाहत रखने वाले निवेशकों को इसमें अवश्य निवेश करना चाहिए।‘

महिंद्रा क्रेडिट रिस्क योजना का उद्देश्य मध्यम से उच्च सुरक्षा निवेश ग्रेड के क्वालिटी इंस्ट्रूमेंट्स में निवेश करना और कम से कम जोखिम पर कम अस्थिरता के साथ इच्छित रिटर्न हासिल करना है। रिस्क गार्ड प्रोसेस के आधार पर प्रतिभूतियों का चयन किया जाएगा,जो कि एक इन हाउस रिसर्च और प्रोसेस फ्रेमवर्क है।मध्यम जोखिम को अपनाने वाले ऐसे निवेशक जो अपने पोर्टफोलियो को विविधता देने के इच्छुक हैं और पारंपरिक निवेश विकल्पों के स्थान पर ऐसे नए विकल्प तलाश रहे हैं जिनमें जोखिम कम हो और जो बेहतर रिटर्न दे सकें,वे महिंद्रा क्रेडिट रिस्क योजना से ऐसी उम्मीदें लगा सकते हैं।यह योजना उन निवेशकों के लिए भी उपयुक्त है जो सुरक्षा,तरलता और रिटर्न के बेहतर संतुलन की तलाश में हैं।

इस योजना के तहत मुख्य रूप से न्यूनतम 65%निवेश एए़़ रेटेड कॉरपोरेट बॉन्ड्स को छोड़कर एए और इससे नीचे वाले कॉर्पोरेट बॉन्ड्स में किया जाएगा,जबकि 35 प्रतिशत तक का निवेश डेट और मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट्स में किया जाएगा (योजना की शुद्ध परिसंपत्तियों के 30 प्रतिशत तक सिक्यूरिटाइज्ड डेट शामिल है)।इसके अलावा, ब्याज दरों में कमी और सूचीबद्ध संस्थाओं के पर्याप्त डेट अनुपात में निवेश करने के प्रयास के साथ विविधता के मामले में पूंजी वृद्धि की व्यापक संभावना के साथ आरईआईटी और आईएनवीआईटी द्वारा जारी यूनिट्स में 10% तक निवेश किया जाएगा।

No comments

Post a comment

Home