.Com जीवन शैली प्रबंधन सुखी जीवन के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण-डा वी एस उपाध्याय | Zila News

जीवन शैली प्रबंधन सुखी जीवन के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण-डा वी एस उपाध्याय

जौनपुर : लाइफ स्टाइल मैनेजमेंट जीवन शैली प्रबंधन विषय पर सेमिनार का आयोजन सारा मेडिकल्स के तत्वावधान मे सारा पैलेस शाही किला पर हुआ, जिसमे मुख्य अतिथि दिनेश टंडन पूर्व अध्यक्ष नगर पालिका परिषद व मुख्य वक्ता वरिष्ठ हृदय व डायबिटीज रोग विशेषज्ञ डा वी एस उपाध्याय ने दीप प्रज्वलित कर सेमिनार का शुभारंभ किया| गुलाम मेंहदी बिल्लू व जौन अब्बास ने आये हुए लोगो का स्वागत किया|
 उक्त विषय पर विस्तार से बताते हुए डा वी एस उपाध्याय ने कहा कि सही जीवन शैली का तात्पर्य सुरक्षित, सुचारू, सहूलियतदायी, सरल, स्वस्थ और सुखी जीवन जीने के तरीके से है। बदलते सामाजिक - आर्थिक माहौल के कारण, कुछ लोग ऐसी आदतों को अपना लेते हैं जिससे उनका जीवन बर्बादी की ओर अग्रसर हो जाता है। बाद में इस तरह के गलत तरीके की परिणति जीवन शैली जनित रोगों में तब्दील होती है। अतएव, समय रहते जीवन शैली में यथेष्ट परिवर्तन सुखी जीवन के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। आगे डा उपाध्याय ने कहा कि आज की शहरी कार्यशैली में पीठदर्द, मोटापा, अधकपारी, तनाव, अवसाद आदि बीमारियां तेजी से घर करती जा रही हैं। लगातार ऐसे युवाओं की तादाद बढ़ रही है जो इस तरह की बीमारियों से ग्रसित हो रहे हैं। इसके पीछे अगर कुछ है तो वह है युवाओं के काम करने, रहने और खाने-पीने का तरीका। यानी जिस तरह से आधुनिकता ने हमारी जीवन शैली को बदलकर रख दिया है, उसका सीधा असर स्वास्थ्य पर पड़ रहा है। डायबिटीज आधुनिक जीवन शैली में तेज़ी से विकसित होता रोग है| तथा ह्रदय रोग मौत का एक प्रमुख कारण हो सकता है, भविष्य मे ह्रदय की समस्याओ से बचने के लिए हमे आज एक स्वस्थ जीवन शैली अपनानी चाहिए | आगे डा उपाध्याय ने कहा कि धूम्रपान या तम्बाकू का सेवन बिल्कुल ही न करे| तनाव मुक्त रहे, जंहा तक संभव हो ज़ोर ज़ोर से हंसे, पूरी नींद अच्छी तरह सोए 6 से 8 घण्टे, संतुलित भोजन ग्रहण करे, वज़न नियन्त्रित रखे, नियमित व्यायाम करे| दिनेश टंडन ने कहा कि आज हमारी जीवन शैली बाज़ारवाद उपभोक्तावाद एंव जल्दबाजी से विक्रत हो गई है, हमारा भोजन स्वाद के अधीन हो गया है, पोषकता को भूल गये हैं, हमको व्यस्तता ने स्वंय के प्रति अंधा बना दिया है, जिसके कारण हमारी जीवन शैली रोगो की जनक हो गई है| इसलिए जीवन शैली मे सुधार कर इसका प्रबंधन ज़रूरी है|
अन्त में ई. लेयाक़त ज़ैदी व नदीम आगा ने आभार व्यक्त किया, संचालन सैय्यद मोहम्मद मुस्तफा ने किया|   इस अवसर पर हादी हसन बल्लन, एस टी हसन गुड्डु, डा एम एम वर्मा, डा जे पी सिंह, इक़बाल मेहंदी, आरिफ हुसैनी, हैदर हुसैन अब्बास हैदर, सोमेश्वर केसरवानी, राजनाथ यादव, नज़ीर हसन, कासिम मेहदी जावेद, विजय गुप्ता, गोपाल जी भाटिया, शमीम अहमद, सै. मो. हसन नसीम, हामिद खां, विनय गुप्ता आदि लोग उपस्थित रहे |

No comments

Post a Comment

Home