.Com शिक्षाविद् डा. ब्रजेश यदुवंशी ने तमाम गुरूजनों को किया सम्मान | Zila News

शिक्षाविद् डा. ब्रजेश यदुवंशी ने तमाम गुरूजनों को किया सम्मान

जौनपुर। आजाद देश के पूर्व राष्ट्रपति, प्रख्यात दार्शनिक एवं महान शिक्षाविद् भारत रत्न डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन बुधवार को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया गया। इस मौके पर उनके चित्र पर माल्यार्पण करके उपस्थित लोगों ने उनके व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला।
गुरू वह होता है जो अपने शिष्यों को अंधकार से प्रकाश की तरफ ले जाता है। गुरू का नैतिक कर्तव्य होता है कि उसके शिष्य गलत दिशा में न जायं, वरना गुरूतर दायित्व पर प्रश्नचिन्ह लग सकता है। उक्त बातें शिक्षक दिवस व सम्मान समारोह के अवसर पर राजा श्रीकृष्ण दत्त पीजी कालेज के पूर्व हिन्दी विभागाध्यक्ष एवं राज इण्टर कालेज के प्रबन्धक डा. देवेन्द्र उपाध्याय ने कही। उन्होंने आगे कहा कि शिक्षा ऐसी चाभी है जिससे सारे बन्द दरवाजे खुल जाते हैं। सम्मान समारोह के आयोजक शिक्षाविद् डा. ब्रजेश यदुवंशी ने डा. देवेन्द्र उपाध्याय को राज इण्टर कालेज के सभागार में अंगवस्त्रम् एवं स्वलिखित पुस्तक भेंट किया। इसके बाद डा. यदुवंशी ने राजा श्रीकृष्ण दत्त पीजी कालेज के प्राचार्य डा. विष्णु चन्द्र त्रिपाठी एवं राजनीति विज्ञान के विभागाध्यक्ष डा. अखिलेश्वर शुक्ल को महाविद्यालय में पहुंचकर साफा टोपी पहनाकर व पुस्तक भेंट करके सम्मानित किया। इस अवसर पर राज इण्टर कालेज के प्रधानाचार्य डा. सत्य राम प्रजापति, अशोक मिश्र, श्रीप्रकाश सिंह, नगर पालिका जौनपुर के कर अधीक्षक ओपी यादव, डा. विजय प्रताप तिवारी, सुधाकर शुक्ल, डा. चन्द्राम्बुज, युवा नेता रजनीश मिश्र, श्याम नारायण पाण्डेय, रामफेर यादव, ओम प्रकाश सहित तमाम लोग प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।
नौजवान छात्र संगठन ने नगर के टीडीपीजी कालेज के प्राचार्य डा. विनोद सिंह एवं राज डिग्री कालेज के प्राचार्य डा. विष्णु चन्द्र त्रिपाठी को सम्मानित किया। इस मौके पर जिलाध्यक्ष शिवम सिंह गौड़ा ने कहा कि शिक्षक साज के पथ प्रदर्शक होते हैं। इसी क्रम मंे जिला प्रवक्ता शशांक मिश्र सहित अन्य वक्ताओं ने अपना विचार व्यक्त किया। इस अवसर पर निखिल राय, ऋषभ राय, आलोक सिंह, राम जतन यादव, रविशंकर शर्मा सहित तमाम छात्र मौजूद रहे।
उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ के बैनर तले संयोजक सरोज सिंह की अध्यक्षता में गोष्ठी का का आयोजन हुआ। नगर के सरस्वती बाल मन्दिर इण्टर कालेज में आयोजित गोष्ठी में पूर्व राष्ट्रपति, प्रख्यात दार्शनिक एवं महान शिक्षाविद् भारत रत्न डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला गया। इस मौके पर प्रदेश उपाध्यक्ष रमेश सिंह ने कहा कि श्री राधाकृष्णन का शिक्षा के क्षेत्र में अमूल्य योगदान रहा है। उनके जन्मदिन को हम शिक्षक दिवस के रूप मंे मनाते हैं। इसके अलावा प्रदेश मंत्री डा. राकेश सिंह, पूर्व मण्डलीय मंत्री डा. प्रमोद श्रीवास्तव, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य नरसिंह बहादुर सिंह सहित अन्य वताओं ने अपना विचार व्यक्त किया। इस अवसर पर पूर्व मंत्री सुधाकर सिंह, प्रमोद सिंह, अरविन्द सिंह, चन्द्र प्रकाश दुबे, अतुल सिंह, दिलीप सिंह, ठाकुर प्रसाद तिवारी, राजेश सिंह, ओम प्रकाश सिंह, बृजेश सिंह, इन्द्रपाल सिंह, सतीश सिंह, समर बहादुर सिंह, जय प्रकाश सिंह, मो. आजम खां सहित सैकड़ों शिक्षक मौजूद रहे।
करंजाकला संवाददाता के अनुसार स्थानीय विकास खण्ड के प्राथमिक विद्यालय कोहड़ा में शिक्षक दिवस धूमधाम से मनाया गया। प्रधानाध्यापक दिनेश कुमार की देख-रेख में केक काटा गया जिसके बाद छात्र-छात्राओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। तत्पश्चात् प्रधानाध्यापक ने कहा कि समाज में शिक्षा का बहुत ही महत्व है, इसलिये प्रत्येक व्यक्ति को शिक्षित होना अति आवश्यक है। वहीं सहायक अध्यापक राय साहब यादव व प्रेरक संघ क जिला उपाध्यक्ष राज यादव ने डा. राधाकृष्णन द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में किये गये महत्वपूर्ण कार्यों के बारे में बताया गया। इस अवसर पर शिक्षामित्र ज्योति सिंह, कुमारी माया सहित तमाम छात्र-छात्राएं मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन सहायक अध्यापिका वन्दना चौधरी ने किया।
सिकरारा संवाददाता के अनुसार मां शारदा इण्टरमीडिएट बालिका विद्यालय खानापट्टी सिकरारा में शिक्षक दिवस पर डा. राधाकृष्णन का जन्मदिवस मनाया गया। इस मौके पर विद्यालय के प्रबंधक जगदीश नारायण सिंह, प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष अमित सिंह व प्रधानाचार्य शरद सिंह द्वारा केक काटकर धूमधाम से मनाया गया। इस दौरान छात्राओं द्वारा विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसके बाद छात्राओं द्वारा विद्यालय के सभी अतिथियों व शिक्षकों को उपहार देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर रामचन्द्र सिंह, श्रवण यादव, दिलीप सिंह, सौरभ सिंह सहित तमाम लोग उपस्थित रहे।
शाहगंज संवाददाता के अनुसार बसंती देवी आईटीआई परिसर में गोष्ठी का आयोजन हुआ। इस मौके पर डायरेक्टर दिवाकर मिश्र ने कहा कि गुरू का सम्मान करना भारतीय संस्कार व परम्परा है। हम सबको इसको अपने जीवन में उतारना चाहिये। इसके पहले बसन्ती देवी इन्स्टीयूट आफ कम्प्यूटर एजुकेशन की छात्रा रूबी, ज्योति राजभर, मालती आदि ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया। इस अवसर पर सुनील तिवारी, विकास यादव, सुरेन्द्र प्रजापति, रविकान्त यादव, दीपक सिंह, श्याम कुमार, प्यारे लाल, रतन भण्डारी, ईश नारायण मिश्रा सहित तमाम लोग उपस्थित रहे।

No comments

Post a Comment

Home