.Com गीत-संगीत में फूहड़ता के चलते आयी है सामाजिक मूल्यों में गिरावटः तृप्ति शाक्या | Zila News

गीत-संगीत में फूहड़ता के चलते आयी है सामाजिक मूल्यों में गिरावटः तृप्ति शाक्या

जौनपुर। सिने जगत की मशहूर पार्श्व गायिका एवं हिन्दी व भोजपुरी गीतों के माध्यम से लगभग 3 दशकों से सब के दिलों पर राज करने वाले सुरीली आवाज की धनी तृप्ति शाक्या ने मुंगराबादशाहपुर नगर के गुड़हाई मोहल्ले में स्थित पीसीसी सदस्य विश्वनाथ गुप्ता के आवास पर पत्रकारों से कहा कि आज फूहड़ता परोसे जाने वाले गीत-संगीत से सामाजिक मूल्य में गिरावट आयी है। आज युवा वर्ग जिस प्रकार से पाश्चात्य संस्कृति की ओर आकर्षित हो रहा है, उसी में हमारे तमाम सिने जगत के लोग भी अपने व्यवसाय के चक्कर में सहयोगी बनते जा रहे हैं जिससे हमारे समाज में जहां नैतिक मूल्यों में गिरावट आ रही है, वहीं हमारी सामाजिक संरचना भी विकृति होती जा रही है। साथ ही हमारी संस्कृति व सभ्यता को लोग भूलते जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि दशकों पहले मैंने टी सीरीज के साथ मिलकर भगवान श्री कृष्ण के भजन का एलबम सूट किया जिसने मुझे गीत-संगीत की इस दुनिया में प्रसिद्धि दिलाते हुये मुझे इस मुकाम तक पहुंचाया। हिन्दी व भोजपुरी क्षेत्र के संगीत प्रेमियों के दिलों पर राज करने वाली सुरों की धनी तृप्ति ने कहा कि किसी भी गीत एवं संगीत का निर्माण करते समय इस बात अवश्य ध्यान देना चाहिये कि इससे हमारे देश के युवा वर्ग, हमारी संस्कृति एवं सभ्यता पर इसका क्या असर पड़ेगा, क्योंकि जो काम हमारे देश के बड़े-बड़े नेता व राजनीतिज्ञ नहीं कर पाते, वह बड़ा से बड़ा काम हमारे बालीवुड व सिने जगत के लोग आसानी से कर ले जाते हैं, क्योंकि बालीवुड एवं सिने जगत को मानने वाले लोगों की संख्या देश में बहुतायत है। ऐसी स्थिति में हम सभी का यह नैतिक कर्तव्य बनता है कि हम अपने गीत-संगीत एवं फिल्मों में हमेशा अपनी सभ्यता, संस्कृति एवं अपने समाज को संस्कारित एवं शिक्षित बनाने के साथ अपने युवाओं को एक सही रास्ता दिखाने के लिये कार्य करें। देश में आये दिन महिलाओं एवं बच्चियों के साथ हो रहे दुर्व्यवहार एवं आपराधिक घटनाओं के बाबत पूछे जाने पर सुर सामग्री ने कहा कि यह हमारे देश की विडम्बना है कि आजादी के लगभग 75 सालों के बाद भी हमारे देश में महिलाएं एवं बच्चियां सुरक्षित नहीं हैं। हमारे देश की सरकारें भी बेटी बढ़ाओ-बेटी पढ़ाओ का नारा तो जरूर देती हैं लेकिन उन्हें आगे बढ़ाने के लिये सुरक्षित व निर्भीकता का माहौल नहीं उपलब्ध करा पाती। समाज के हर वर्ग, धर्म के लोगों को यह चाहिये कि वह हमारी प्राचीन संस्कृति एवं सभ्यता से सीख लें और महिलाओं एवं बेटियों के विषय में गम्भीरता से सोचें, क्योंकि हर कोई बेटी, किसी की बहन बनेगी, किसी की बहू बनेगी, किसी की पत्नी बनेगी और किसी की मां बनेगी, जरा सोचिये कि यदि उसे कलंकित कर दिया जायेगा तो आगे चलकर वह जहां जायेगी। वह परिवार भी तो कलंकित होगा जब तक हम पुरूष वर्ग के लोग स्वयं जागरूक नहीं होंगे और महिलाओं व बच्चियों के विषय में गम्भीरतापूर्वक नहीं सोचेंगे तब तक महिला सुरक्षा की बात करना भी बेमानी होगी। पत्रकार वार्ता में देवी प्रसाद गुप्त, टिंकू गुप्त, गणेश गुप्त, बार्बी गुप्त सहित दर्जनों लोग उपस्थित रहे।

No comments

Post a comment

Home