.Com हैदर अब्बास आफताब की कमी नहीं हो सकेगी पूरी | Zila News

हैदर अब्बास आफताब की कमी नहीं हो सकेगी पूरी

जौनपुर । मोमनीन कराम अस्सलाम अलैकुम, मोमनीन  जौनपुर की अज़ादारी को फ़रोग देने में अहम भूमिका निभाने वाले जनाब हैदर अब्बास (आफताब) आज ही के दिन (26 सफर 2016) को हम सबसे रुखसत हो गए थे। उनकी कमी न सिर्फ घर वालों को बल्कि अहले जौनपुर को हमेशा खलेगी। 2 महीना 8 दिनों तक शहर के तमाम जुलूसों में उनकी शिरकत होती थी। खासतौर पर चेहलुम के जुलूस में जो उनका रोल था,  कमेटी के लोगों के लिये उनकी जगह भरना शायद नामुमकिन है।इमाम हुसैन के एक सच्चे खादिम की तरह उन्होंने अज़ादारों की खिदमत करने में अपनी पूरी ज़िंदगी को सर्फ कर दिया। आज वो हमारे बीच नहीं है लेकिन उनकी खिदमात जौनपुर के लोगों के ज़हन से कभी मिटेगी नहीं। एक मतमदार के तौर पर उनकी बात की जाए तो उन्हें अन्जुमन गुलशने इस्लाम का रुहेरवां कहना ग़लत नहीं होगा। क्योंकि नौजवानों के साथ दस्ते के बीचो बीच मातम करके इमाम हुसैन को पुरसा पेश करते थे।


आप हज़रात से एक सूरह फातेहा की गुजारिश है। 


शुक्रिया

No comments

Post a comment

Home