.Com स्वयं के खून से अब दूर होगी गठिया की बीमारीः डा. अवनीश सिंह | Zila News

स्वयं के खून से अब दूर होगी गठिया की बीमारीः डा. अवनीश सिंह


जौनपुर। अब ओस्ट्रियो अर्थराइटिस गठिया का मुकम्मल उपचार हो सकता है, वह भी मरीजों के खून से ही से। मरीज के 20 मिली. रक्त निकाला जायेगा जिसे सेंट्रीफ्यूज मशीन में डालकर प्लेटलेट रिच प्लाज्मा तैयार किया जायेगा। यह करीब 4 मिली बनेगा जिसको दूरबीन विधि से घुटने सहित अन्य जोड़ों में डाला जाएगा। इसके असर से घुटने के जोड़ों में सुखी कार्टिलेज लुब्रिकेंट में तब्दील होने लगेगा। ऐसे में गठिया के मरीज में जोड़ों की हड्डियों में घिसाव नहीं होगा और मरीज को सूजन व दर्द से निजात मिलेगा। यह प्रकिया 15 से 20 मिनट की होगी जो स्पोर्ट्स इंजरी में कारगर होगी। उक्त बातें ऑथो सर्जन डा. अवनीश सिंह ने बुधवार को पत्र-प्रतिनिधियों से हुई वार्ता के दौरान कही। डा. सिंह ने बताया कि प्लेटलेट रिच प्लाज्मा ओस्ट्रियो अर्थराइटिस ही नहीं, बल्कि हड्डी के कई रोगों में कारगर है। इसमें स्पेंडलाइटिस, टेनिस, एल्बो, इंजरी, गोल्फर, प्लातर, फेसिया, घुटने के अलावा कलाई की अर्थराइटिस के अधिक मामले हैं। पश्चिमी देशों में हिप अर्थराइटिस की समस्या अधिक है। वहीं देश में घुटना अर्थराइटिस अधिक है। वह दिक्कत घुटने में कार्टिलेज खत्म होने से होती है। डा. सिंह ने बताया कि अर्थराइटिस पीड़ित महिलाएं अधिक हैं। अनुपात 100 मरीज में 60 महिलाओं का है, क्योंकि महिला में 50 की उम्र पार 5वां एस्ट्रोजन हामोर्न की कमी आना है। जनपद जौनपुर में 20 फीसदी आबादी अर्थराइटिस की चपेट में है। प्लेटलेट रिच प्लाज्मा से उपचार शुरू होगा जिसकी तैयारी की जा रही है। अब जौनपुर में यह प्रक्रिया आसानी से होगी जिससे मरीज ठीक हो जायेंगे।

No comments

Post a comment

Home