.Com जुनून एवं मूल्यों का योगफल है सफलता | Zila News

जुनून एवं मूल्यों का योगफल है सफलता





(सोहराब)
लखनऊ विश्वविद्यालय के नवीन परिसर स्थित विधि संकाय की मूट कोर्ट एसोसिएशन द्वारा प्रथम प्रोफेसर एस.के. सिंह मेमोरियल इंटर सेमेस्टर ग्रुप डिस्कशन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। प्रतियोगिता के उद्घाटन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि , आई.आई.एम. लखनऊ के प्रोफेसर डॉक्टर डी.एस. सेंगर मौजूद रहे । उन्होंने छात्रों को अपने जीवन में सफलता प्राप्ति के लिए नियमबद्ध होने की सीख दी साथ ही छात्रों को अपने जीवन में उद्देश्य खोजने के लिए कहा।  उन्होंने बताया की जुनून और मूल्यों का योगफल है सफलता । विधि संकाय द्वारा ग्रुप डिस्कशन प्रतियोगिता आयोजित किए जाने पर प्रसन्नता जताई और कहा की टीम बिल्डिंग की सीख देती है ऐसी प्रतियोगिता । उन्होंने छात्रों से हाव भाव की भाषा पर ध्यान देने के साथ-साथ इशारे एवं आसन को अच्छा करने की बात कही । सदा ह्रदय की सुने , तर्कशक्ति का निखार करें एवं भावुक ना हो कहकर प्रतिभागियों को शुभकामनाएं दी। कार्यक्रम में बतौर विशिष्ट अतिथि स्वर्गीय प्रोफेसर एस.के. सिंह के दोनों सुपुत्र , चीफ मेडिकल ऑफिसर केंट जनरल हॉस्पिटल, बरेली डॉ विजय विक्रम सिंह एवं मेडिकल ऑफिसर , अपोलो हॉस्पिटल , दिल्ली डॉ विकास विक्रम सिंह मौजूद रहे । डॉ विजय विक्रम सिंह ने अपने पिता की स्मृति में प्रतियोगिता का आयोजन किए जाने पर खुशी जताई और अपने पिता के जीवन के उदाहरण से छात्रों को बताया कि कैसे डॉ एस.के. सिंह लक्ष्य बनाकर उसे पाने में लग जाते थे । डॉ विकास विक्रम सिंह ने अपने पिता के द्वारा दी हुई सीख , जीवन में नियमावली आवश्यक है के बारे में बताया।
इसके पश्चात संकाय के विभाग अध्यक्ष एवं संकाय अध्यक्ष प्रोफेसर सी.पी. सिंह द्वारा प्रतियोगिता का शुभारंभ करने की अनुमति दी गई । प्रतियोगिता के प्रथम चरण में 36 प्रतिभागियों को छह वर्चुअल रूम्स में बांटकर जोड़ा गया । सभी प्रतिभागियों ने एक से बढ़कर एक प्रदर्शन किया। इन्हीं छह वर्चुअल रूस में से हर एक रूम के सर्वश्रेष्ठ वक्ता का चयन अंतिम चरण के लिए किया गया । प्रतियोगिता के अंतिम चरण में बतौर निर्णायक एवं मुख्य अतिथि सिविल जज (सीनियर डिविजन) , ललितपुर , उत्तर प्रदेश , सुनील कुमार सिंह एवं निर्णायक तथा विशिष्ट अतिथि सिविल जज (जूनियर डिविजन) बसगांव गोरखपुर , उत्तर प्रदेश , आशीष कुमार सिंह मौजूद रहे । प्रतियोगिता के समापन समारोह के दौरान जज सुनील कुमार सिंह ने प्रतिभागियों को जीवन में उपयोग आने वाली कई महत्वपूर्ण सलाह दी । उन्होंने बताया की विधि की शिक्षा चुनौतीपूर्ण है परंतु अच्छे से किए जाने पर प्रतिफल देने वाली भी है। उन्होंने प्रतिभागियों को अपने कार्य को टालने से बचने की सलाह भी दी । जज आशीष कुमार सिंह ने प्रतिभागियों को ग्रुप डिस्कशन में सर्वश्रेष्ठ करने के लिए उपयोगी सलाह दी उन्होंने बताया कि अपने विचार को एक बार देखने के बाद पुनः उसी विचार को मत रखें एवं अपनी बात कहने के पश्चात दूसरों को भी अपनी बात रखने का मौका दें । 
प्रतियोगिता में 3 वर्षीय एलएलबी के सौरभ सिंह प्रथम , 5 वर्षीय एलएलबी ऑनर्स के अनादि तिवारी रनर्स अप एवं जीडी कोर्ट सी बेस्ट ग्रुप रहा ।

No comments

Post a Comment

Home